डोनाल्ड ट्रंप निजी हेलीकॉप्टर को बस देख सकते हैं, उड़ान नहीं भर सकते, जानें क्यों               जयंती पर बाबू जगजीवन राम को किया याद                 लालू के बेटों के पास है 30 करोड़ का प्लॉट, यही है कई घोटालों की असली वजह : बिहार बीजेपी

बिहार और बाढ़ का पुराना नाता चला आ रहा है, खासकर कोसी का क्षेत्र, अभी तो बिहार का उत्तर, उत्तर पूर्व क्षेत्र पूर्ण रूप बाढ़ ग्रस्त हो गया है,वहाँ के सभी जनता परेशान हैं,

बिहार और बाढ़ का पुराना नाता चला आ रहा है, खासकर कोसी का क्षेत्र, अभी तो बिहार का उत्तर, उत्तर पूर्व क्षेत्र पूर्ण रूप बाढ़ ग्रस्त हो गया है,वहाँ के सभी जनता परेशान हैं, लेकिन बड़े स्तर पर बाढ़ राहत के लिए कुछ नहीं किया जा रहा है, हम लोग पिछले बाजपेयी और राबड़ी सरकार से ही बिहार में नदी जोड़ने की पाईलट प्रोजेक्ट के बारे में सुन रहे हैं, उस समय के त्तकालिन राष्ट्रपति स्वर्गीय कलाम साहब ने पुर जोर वकालत भी की,फिर #Nitishkumar की सरकार आई बोला गया कि जल्द ही नहरो के siltation को हटाया जाएगा और बाढ़ से नीजात पाने के लिए जल्द ही सभी नदियों को जोड़ने का काम किया जाएगा और water management institute खोले जाएंगे और हर संभव काम किया जाएगा, लेकिन हुआ इन सभी वादे में से ज्यादा कुछ नहीं, और इसके उलट दरभंगा बागमती बाढ़ और 2008 कोसी नदी की त्रासदी को कैसे भुल सकता है जहाँ कोसी बराज टूटने से लाखों मासूम लोगों की जाने गई,जिसको national disaster में रखा गया, लेकिन बिहार सरकार मे बैठे उस समय के नेताओं और अधिकारियों ने बाढ़ राहत घोटाला किया और उन मासूम लोगों के मरने के पैसे भी खाये, कई के नाम सार्वजनिक भी आए जिनमें गौतम गोस्वामी और संतोष प्रमुख थे, और बाकीयो के नाम पर पर्दा डालने का काम किया गया, रही फिर पहले जैसी ही कहानी हर साल बाढ़ बचाव और बाढ़ रोक धाम पर कई सौ करोड़ो रुपये खर्च तो किये गए और किये जा भी रहे है लेकिन बिहार में बाढ़ से कुछ ज्यादा निजात नहीं मिल सका, और आज भी नदियों को जोड़ने का काम फाईलो मे दब कर रह गई, water management का काम केवल institute तक ही सीमित रह गया,इतने सालो मे कितनी ही सरकारे बनती बिगड़ती रही, और आम जनता पहले भी परेशान थी और आज भी है लेकिन बिहार के नेता और अधिकारियों के बाढ़ राहत के नाम पर पेट जरूर भर रहे हैं,
आज कई पीड़ित व्यक्तियों से बात हुई उनका कहना है कि लगातार जल स्तर बढ़ रहा है, और कोई सहयोग नहीं मिल पा रहा है, और उन लोगों की सहयोग के लिए हमने NDRF control room, SDRF में बात हुई बोला गया कि राहत काम चल रहा है, लेकिन हमने जब बिहार सरकार के आपदा प्रबंधन मंत्रालय के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत से बात करना चाहा तो लगातार mobile no. 9473005791 बंद बता रहा था,ऐसे अधिकारियों के मोबाइल नंबर ministry के website पर दिया हि क्यों जाते हैं, बंद कर रखने के लिए, फिर हमने जब मुख्यमंत्री कार्यालय में बात करना चाहा तो वहाँ किसी ने फोन रिसाव नही किया, फिर उपमुख्यमंत्री से बात हुई तो उन्होंने बोला कि जल्द राहत और कार्रवाई की जायेगी लेकिन पता नहीं यह बिहार की भोली भाली मासूम जनता को भ्रष्टाचार, बाढ़, घोटालों से कब निजात मिलेगा।

a��a�?a�?a�?a�� a�?a��a��a�?a�� a��a?� a��a�?a�?a�? a��a�?a�?a�� a��a�?a��a??a�?a��a??a��a�� a�?a�?a?� a�?a??
shareShare on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someone

Be the first to comment on "बिहार और बाढ़ का पुराना नाता चला आ रहा है, खासकर कोसी का क्षेत्र, अभी तो बिहार का उत्तर, उत्तर पूर्व क्षेत्र पूर्ण रूप बाढ़ ग्रस्त हो गया है,वहाँ के सभी जनता परेशान हैं,"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*


A single thread of hope is still a very powerful thing.          Give your stress wings and let it fly away.          You should never regret in life. If it's good, it's wonderful. If it's bad, it's experience.

       
CLOSE
CLOSE